*विश्वरुपम योगी*

 

राधा संग तूने प्रीत रचाई,
गोपियों संग रास रचाके तूने पुरे जग में धूम मचाई|
माखन तूने चुरा के खाया,
बांसुरी की धुन पे तूने चिड़िया को जगाया|
गैया तूने खूब चराई,
गोवर्धन से तूने मथुरा बचाई|

सुदर्शन उठाया की धर्म कि रक्षा,
असुरों को तूने तनिक न बक्शा|
प्रीत की राह तूने जग को सिखाई,
सुदामा से दोस्ती निभा एक मिसाल दर्शायी|
मईया को तूने बड़ा सताया,
मटकियाँ तोड़ तूने गोपियों रुलाया|

कभी चंचलता से सबको सीख सीखाई,
तो कभी कालिया नाग जैसों को धूल चटाई|
गीता का तूने पाठ पढाया,
अँधेरे से उजाले तक का मार्ग दिखाया|
सखा भी है तू और पालनहार भी है तू,
गोपाल भी तू और गोविंद भी है तू|

कान्हा है, कन्हैया है, घनश्याम भी है तू,
हरि  है, हिरंयगर्भा है, जगन्नाथ है, जनार्धन है तू|
तेरी लीलाओं पे जाऊं मैं बलिहारी,
मुरली मनोहर, विश्वरुपम, योगी भी तू मेरे रास बिहारी|
श्रिष्टी का तू पालनहार,
जन्मदिन पे तेरे हम करे प्रकट हमारा आभार|

रंजीता नाथ घई सृजन

 

© All Rights Reserved.
©Ranjeeta Nath Ghai,  Atrangi Zindagi Ka Safar, 2016.

Like, Follow, Comment and Inspire.
Your likes and comments are highly valued…
And they make my day…
🙂

 

Follow Me On Social Media

One Response

  1. atrangizindagieksafar August 14, 2017

Like. Comment. Follow. Inspire. Subscribe now...

%d bloggers like this: